श्री जैन कन्या पी.जी. महाविद्यालय में वार्षिकोत्सव एवं पुरस्कार वितरण समारोह
बीकानेर। आज के युग में शिक्षा महत्वपूर्ण अंग है और बेटी का शिक्षित होना समाज के लिए बहुत जरूरी है। शिक्षित बेटी समाज को, परिवार को शिक्षित करने में अहम् भूमिका निभाती है। ये उद्गार उच्च शिक्षा राज्यमंत्री भंवरसिंह भाटी ने जैन कन्या पी.जी. महाविद्यालय कं वार्षिकोत्सव एवं पुरस्कार वितरण समारोह में बतौर अतिथि कहे। उन्होनें कहा कि गुणवता के साथ शिक्षा व विद्यार्थियों के व्यक्तित्व विकास व समाज के उत्थान में कार्य करने वाली शिक्षण संस्थाओं के स्थापित होने से ही इस रेगिस्तानी व पिछड़े जिले का सर्वागींण विकास होगा। उन्होंने कहा कि संस्था विषम परिस्थितियों में अपनी बालिकाओं को बेहतर शिक्षा देने की अभिलाषा रखने वाले अभिभावकों के मनोभावों के अनुसार खरी उतरे तथा बालिका शिक्षा को बढ़ावा दें। भाटी ने अपने उद््बोधन में शिक्षा के क्षेत्र में छात्राओं की भूमिका को सराहा तथा राष्ट्र निमार्ण में छात्राओं को अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की अपील की। विशिष्ट अतिथि जयचन्द लाल डागा एवं थानमल बोथरा ने शिक्षा के क्षेत्र में छात्राओं के सराहनीय कार्य के लिये प्रेरित किया। विजय चन्द डागा ने पुरस्कृृत छात्राओं के सम्मान और भी छात्राएं कड़ी मेहनत कर उनसे प्रेरणा लें। इससे पूर्व कार्यक्रम का प्रारम्भ दीप प्रज्ज्वलन के साथ ही छात्राओं के द्वारा सरस्वती वन्दना एवं नवकार मंत्र से किया गया। कार्यक्रम में अतिथियों के स्वागत की कड़ी में सर्व प्रथम मुख्य अतिथि भंवरसिंह को विजय कुमार कोचर,नरेन्द्र कुमार कोचर,निहालचन्द कोचर द्वारा माल्यार्पण एवं नयनतारा छल्लाणी एवं इन्दू देवी सुराणा तथा प्राचार्य डा. सन्ध्या सक्सेना ने पुष्प गुच्छ भेंट कर किया तथा जयचन्द लाल एवं विजय चन्द डागा ने शॉल ओढाकर स्वागत किया तथा सुरेन्द्र बद्धाणी एवं सुशील सामसुखा ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। समारोह अध्यक्ष जयचन्द लाल डागा को विजय कुमार कोचर एवं नरेन्द्र कोचर द्वारा माल्यार्पण कर स्वागत किया गया तथा निहालचन्द कोचर ने शॉल ओढाकर स्वागत किया तथा विजय कुमार कोचर एवं अर्पिता कोचर ने स्मृृति चिन्ह प्रदान कर स्वागत किया । इसी प्रकार विशिष्ट अतिथि थानमल बोथरा एवं विजय डागा का विजय कुमार कोचर एव नरेन्द्र कोचर ने माल्यार्पण किया, स्वागत की इस क्रम में थानमल बोथरा को नरेन्द्र कोचर एवं शिखा बांठिया ने स्मृति चिन्ह दिया तथा विजय डागा को विजय चन्द बांठिया ने स्मृृति चिन्ह देकर सम्मानित किया । कार्यक्रम के अन्तर्गत छात्राओं द्वारा रंगारंग प्रस्तुतियंा दी गई। जिसके अन्तर्गत गण्ेाष वन्दना, कालबेलिया नृृत्य, मुकाभिनय,हरियाणवी समूह नृृत्य तथा भवाई नृृत्य बहुत ही सुन्दर प्रस्तुतियंा दी गई, महाविद्यालय की छात्राओं में महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय द्वारा प्रदत स्वर्ण पदक विजेताओं में कु. मोनारानी मुंझाल, मुस्कान भंसाली, माधुरी बांठिया एवं कु. आयुषी पुगलिया को सुशील सामसुखा फाजिल्का परिवार द्वारा सभी को प्रोत्साहन स्वरूप नकद पुरस्कार प्रदान किये गये तथा महाविद्यालय स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली सभी कक्षाओं की छात्राओं को उपद्यान चन्द कोचर की स्मृृति में कमला देवी कोचर परिवार द्वारा नकद राशि प्रदान कर प्रोत्साहित किया गया । इसी कड़ी में सांस्कृतिक एवं खेलकूद प्रतियोगिताओं में विजेता एवं उपविजेता छात्राओं को पुरस्कृृत किया गया। महाविद्यालय प्राचार्य डॉ.सन्ध्या सक्सेना ने वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। संस्था अध्यक्ष विजय कोचर ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए संस्था के चहुँमुखी विकास में भामाषाहों के सहयोग की भूरि भूरि प्रषंसा की। संस्था सचिव नरेन्द्र कोचर ने कार्यक्रम आगन्तुक सभी मेहमानों को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कार्यक्रम के सफल आयोजन में महाविद्यालय प्राचार्य, समस्त संकाय सदस्यों कर्मचारियों एवं छात्राओं को भी धन्यवाद ज्ञापित कर आभार प्रकट करते हुए उज्ज्वल भविष्य की शुभकामना दी। संचालन डॉ. धनपत जैन ने किया ।