>



बीकानेर । बीकानेर और आस पास के क्षेत्र दो दशकों के सबसे लम्बे और निर्मम शीत लहर के दौर से गुजर रहे है। मंगलवार को भी मौसम के सितम में कोई कमी नहीं आई। यहां न्यूनतम तापमान 2.2 डिग्री दर्ज हुआ। वहीं दिन में धूप निकली पर उत्तर पूर्वी बर्फानी हवाएं चलने से पारा 16.5 डिग्री से. से ऊपर नहीं गया। हालांकि मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि नया वर्ष शुरू होने के साथ एक बार तापमान कुछ बढ़ेगा और मौजूदा ठण्ड से राहत मिलेगी। बीकानेर क्षेत्र में आज भी 95 प्रतिशत नमी के चलते प्रात: 12 बजे तक कोहरे का कहर छाया रहा। दिन में भी धुंध का प्रकोप रहा। नगरों से लगाकर गांवों तक में जन जीवन सर्दी में जकड़ा हुआ है। बहुत जरूरी होने पर ही लोग घरों से बाहर निकलते हैं। मौसम विभाग के क्षेत्रीय निदेशक शिव गणेश का कहना है कि पश्चिमी राजस्थान में शुष्क बर्फानी हवाएं चलने से सर्दी ज्यादा तीखी है। मौसम विभाग का कहना है कि भीषण सर्दी से राहत पाने के लिए 48 घंटे और इंतजार करना पड़ेगा। वर्तमान में दिन व रात्रि के तापमान सामान्य से 4 से 5 डिग्री तक कम बने हुए है। शीतलहर का लम्बा दौर फसलों को भी प्रभावित कर रहा है। सरसों, तारामीरा, सब्जियां आदि की खेती करने वाले फसलों को पाले से बचाने के जतन करने नजर आते हैं।