>


जयपुर। प्रदेश की राजनीति में राज्यपाल कलराज मिश्र और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीच का गतिरोध तो खत्म हो गया है, लेकिन अभी भी प्रदेश के सियासत में ऐसे कई मोड बाकी है, जो आगामी दिनों में कई नए अध्याय लिखेंगे। आपको बता दें कि राज्यपाल कलराज मिश्र ने राज्य सरकार को 14 अगस्त से सत्र बुलाने की मंजूरी दे दी है। वहीं इसके साथ ही आरोप- प्रत्यारोप के दौर ने तेजी पकड़ ली है। कांग्रेस- बीजेपी लगातार एक दूसरे पर हमले कर रही है। इसके अलावा बसपा और बीजेपी जहां कांग्रेस को कानूनी लड़ाई के जरिए मात देने में जुटी हुई है। वहीं सचिन पायलट खेमे की मुश्किलें बढ़ाने के लिए स्पीकर सीपी जोशी ने एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट का रुख कर लिया है।

आज सीएम गहलोत ने अध्यक्षता में होटल फेयरमोंट में बैठक
राज्यपाल की ओर से 14 अगस्त को सत्र बुलाने की मंजूरी मिलने के बाद अब कांग्रेस की ओर से गुरुवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक होगी। होटल फेयरमोंट में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में होने वाली विधायक दल की बैठक में सरकार आगे की रणनीति तय करेगी। साथ ही मौजूदा हालातों से जुड़े कई विषयों पर मंथन किया जाएगा।

पायलट के बधाई ट्वीट का डोटासरा ने दिया जवाब , कहा – उम्मीद आप कांग्रेस के साथ खड़े होंगे
नए पीसीसी चीफ का पदभार ग्रहण करने के बाद पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने भी गोविंद सिंह डोटासरा को ट्वीट कर बधाई दी। पायलट ने लिखा डोटासरा को राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष का पदभार ग्रहण करने पर बधाई। मुझे उम्मीद है की आप बिना किसी दबाव या पक्षपात के उन कार्यकर्ताओं, जिनकी मेहनत से सरकार बनी है, उनका पूरा मान-सम्मान रखेंगे। जवाब में पायलट का आभार जताते हुए डोटासरा ने ट्वीट किया, मुझे भी उम्मीद है कि आप भाजपा और खट्टर सरकार की मेहमानवाज़ी छोड़कर उन सभी कांग्रेसी कार्यकर्ताओं जिनकी मेहनत से सरकार बनी है, उनके मान-सम्मान को बरकऱार रखने के लिए जयपुर आकर कांग्रेस सरकार के साथ खड़े होंगे।

सचिन पायलट ने सीपी जोशी को दी ट्वीट कर बधाई
भले ही सचिन पायलट खेमा स्पीकर सीपी जोशी के नोटिस मामले के खिलाफ हाईकोर्ट चले गए हो, लेकिन पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर एक बार फिर एक्टिव हुए सचिन पायलट ने स्पीकर जोशी को ट्वीट कर उनके जन्मदिन पर बधाई दी। सियासी हलकों में इसे लेकर काफी चर्चा है।

सीएम गहलोत के समन पर नहीं पहुंचे गहलोत के बड़े भाई अग्रेसन
राजस्थान में सियासी उठापटक के बीच उर्वरक घोटाले की पूछताछ के लिए केंद्रीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय की ओर से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बड़े भाई अग्रसेन गहलोत को समन भेजकर दिल्ली तलब किया गया था, लेकिन वो नहीं पहुंचे। ऐसे में अब उनकी मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। अब जांच एजेंसी ईडी दूसरा समन भेजेगी।