बीकानेर। बीकानेर में इन दिनों स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर साफ सफाई के खासे दावे किये जा रहे है। यहीं नहीं जिला प्रशासन और नगर निगम के अधिकारी व जनप्रतिनिधि भी स्वच्छता संदेश की बातें अपने भाषणों में करते है। दुर्भाग्य की बात यह है कि आमजन को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने वाले जिम्मेदारों के दावे खोखले साबित हो रहे है। 11 व 12 जनवरी को बीकानेर में अन्तर्राष्ट्रीय ऊंट उत्सव का आयोजन किया गया,जिसमें देशी-विदेशी सैलानियों ने दो दिनों तक चले आयोजनों का खूब आनंद उठाया। अफसोस जिस स्थल पर यह आयोजन हुआ,आयोजन के बाद वह स्थल अपनी बदहाली के आंसू बहा रहा है। जहां कि आयोजन की वाही वाही तो पर्यटकों ले लूट ली गई लेकिन गंदगी ने समूचे मैदान पर कब्जा कर अपना साम्राज्य बना लिया है। प्लास्टिक के बहिष्कार का ऐलान करने वाले जिम्मेदारों के वीआईपी स्थल अब कचरे से अटे पड़े हैं, जिनकी सफाई की ओर कोई ध्यान नहीं दे दिया जा रहा है। मैदान में भी पॉलिथीन और कचरे का ढेर लगा हुआ है, जिससे यहां स्वास्थ्य का लाभ लेने आने वाले तथा नियमित खेल का अभ्यास करने वाले खिलाड़ी खासे परेशान हो रहे हैं।

जगह जगह पड़ी है पानी की खाली बोतलें
हांलाकि बीकानेर में आयोजित ऊंट उत्सव ने विदेशी सैलानियों का दिल तो जरूर जीत लिया। लेकिन अव्यवस्थाओं के चलते यहां के वांशिदें खासे निराश रहे। आलम ये रहा कि स्टेडियम में वीआईपी कल्चर हावी होने से स्थानीय लोगों को पास के नाम पर तंग कर वापस रवाना होने को मजबूर किया। वहीं कवरेज के लिये आएं मीडियाकर्मियों से भी वोलियोन्टरों ने खासी बदतमीजी की। इतना ही नहीं दो दिनों तक आयोजन के दौरान सफाई व्यवस्था का कोई ध्यान नहीं दिया गया। महज वीआईपी स्टेण्ड की तरह दिखावे के तौर पर साफ सफाई गई। मजे की बात ये है कि इसी स्टेण्ड में बैठे वीआईपी लोगों ने पन्नी व पैके ट फेंक दिए गए, जबकि इस कार्यक्रम में सभी जिम्मेदार अधिकारी उपस्थित थे, लेकिन दो दिन बीत जाने के बाद भी स्टेडियम में से कचरा नहीं हटाया गया और ना ही साफ सफाई की गई। जहां शासन ने स्वच्छता का ढोल पीटकर लाखों रुपए खर्च कर किए, वहीं अधिकारियों के नाक के नीचे ही है खेल मैदान में फैली गंदगी बता रही है कि साफ-सफाई को लेकर जिम्मेदार कितने चिंतित है। परिसर में फैली गंदगी गाय व अन्य जानवर खा रहे हैं। साथ ही खिलाड़ी भी 2 दिन से खेल नहीं पा रहे हैं। खेल गतिविधियां पूरी तरह ठप पड़ी है।

वर्जन
हमने नगर निगम को ऊंट उत्सव के सम्पन्न होने के बाद ही साफ सफाई का कह दिया। मंगलवार शाम तक की शिफ्ट में सफाई करवाने की बात निगम के स्वच्छता निरीक्षक ने कही। आज दिनांक तक निश्चित रूप से सफाई हो जाएगी। कृष्ण कुमार शर्मा,सहायक निदेशक पर्यटन