बीकानेर। मां सरस्वती का विशेष शृंगार, भक्ति संगीत के आयोजन, अल सुबह से दर्शनार्थियों की भीड़ और इन सबके बीच श्रद्धालुओं में वितरित हुआ रेवडिय़ों का प्रसाद। वसंत पंचमी पर बुधवार को ये नजारा नागरी भंडार व पब्लिक पार्क के सरस्वती मंदिर में दिखा। इन मंदिरों के अलावा नगर के विभिन्न मोहल्लों, स्कूलों आदि में भी वसंत पंचमी हर्षोल्लास से मनाई गई। विभिन्न मोहल्लों में चंग-नगाड़ों पूजा हुई। अबूझ मुहूर्त होने के कारण विवाह सहित व्यापारिक प्रतिष्ठानों के उद्घाटन, बच्चों के नामकरण, सगाई आदि के कई मांगलिक कार्य भी हुए। इतना ही नहीं मंदिरों में भगवान नई पोषाक पहनाने के साथ की एक चुटकी अबीर-गुलाल के साथ फाग खेलाई गई। नगर की शिक्षण संस्थाओं में सरस्वती पूजन, वार्षिकोत्सव सहित विभिन्न आयोजन हुए। इस मौके विद्यार्थियों सहित अध्यापक भी पीले वस्त्र पहन स्कूल पहुंचे और ऋतु परिवर्तन के पर्व का स्वागत किया। वसंत पंचमी के साथ ही विभिन्न मोहल्लों में चंग-नगाड़ों का पूजन किया गया। इसके साथ ही विभिन्न मोहल्लों में चंग वादन का सिलसिला शुरू हो गया।

रम्मतों का पूर्वाभ्यास
होलीके मौके पर नगर के विभिन्न मोहल्लों में खेली जाने वाली रम्मतों का पूर्वाभ्यास वसंत पंचमी से शुरू हो गया। आचार्यों के चौक में अमरसिंह राठौड़, बिस्सों के चौक में हेड़ाऊ मेहरी, बारहगुवाड़ चौक में शहजादी नौटंकी, ख्याल, चौमासा प्रधान, किकाणी व्यासों के चौक में जमनादास कल्ला आदि की रम्मतों का पूर्वाभ्यास शुरू किया गया।
फाग गीतों का आगाज
वसंतपंचमी पर विभिन्न मोहल्लों में चंग-नगाड़ों का पूजन किया गया। जस्सूसर गेट के अंदर जगदंबा मित्र मंडल की ओर से चंग पूजन किया गया। इस मौके पर सत्यनारायण प्रजापत, मुकेश, गुरु, वेद कुमार, जेठाराम प्रजापत, लाधुराम आदि उपस्थित थे। गोपेश्वर-खेतेश्वर बस्ती में मां सरस्वती के दर्शन के बाद चंग पूजन किया गया। कीकाणी व्यासों का चौक, जूनागढ़ के पास, गंगाशहर, सुजानदेसर भीनासर सहित शहरी ग्रामीण क्षेत्रों में चंग पूजन किया गया। वहीं चौथाणी ओझाओं के चौक में वाद्य यंत्रों का पूजन मदनगोपाल व्यास की अगुवाई में किया गया।

ग्रामीण हाट’ में ‘बसंत महोत्सव’ का शुभारंभ
जयनारायण व्यास काॅलोनी स्थित ग्रामीण-हाट में बुधवार को सात दिवसीय ‘बसंत महोत्सव’ का शुभारम्भ हुआ है। मेले का शुभारम्भ स्वामी केषवानन्द कृषि विष्वविद्यालय के अधीन होम सांईस काॅलेज व राजकीय महिला पाॅलिटेक्निक महाविद्यालय की छात्राओं द्वारा मां सरस्वती के फोटो पर माल्यार्पण कर किया गया। इस मौके पर उद्योग विभाग की महाप्रबंधक मंजू नैण गोदारा एवं महाविद्यालय की वरिष्ठ प्रवक्ता दीप्ति कष्यप, सेल्विना सेबेस्टियन एवं अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।मेले में पश्मीना शाॅल, दुपट्टे, भदोई के कारपेट, गुजरात का खाखरा, हैण्डीक्राॅफ्ट आईटम तथा इस शादियों के सीजन में देने हेतु अन्य अनेक गिफ्ट आईटम, होम डेकोर तथा उत्कृष्ट कलात्मक वस्तुएँ लगाई गई है। मेले में छात्राओं द्वारा काॅस्टयूम डिजाईन एण्ड ड्रेस मेकिंग विभाग एवं टेक्सटाइल डिजाइन की छात्राओं द्वारा तैयार साडी, कुषन कवर, वाल हैगिंग व हस्तषिल्प बुनाई द्वारा निर्मित मेट, कारपेट, मिनियेचर, कलमकारी, फड़, मधुबनी पेंटिग्स का प्रदर्षन किया गया है। ड्रेस डिजाईनिंग में भी छात्राओं द्वारा लेड़िज, पुरूष तथा बच्चों के परिधान व कढ़ाई द्वारा निर्मित उत्पाद व फैषन एसेसरिज आदि का प्रदर्षन किया गया है। मेेले में खाने-पीने की स्टाॅल भी लगाई गई है। मेला दोपहर 12.30 से रात्रि 9 बजे तक खुला रहेगा तथा प्रवेष निःषुल्क रखा गया है।