अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच के लिए पहुंची CBI ने बाघंबरी गद्दी मठ के कमरे में घटना का 3 बार रिक्रिएशन किया। CBI ने नॉयलान की रस्सी से महंत के वजन के बराबर 85 किलो के पुतले को लटकाकर सेवादारों से 3 बार उतरवाया। पूरी घटना की वीडियोग्राफी भी कराई गई। CBI ने बलवीर गिरि से भी एक घंटे तक पूछताछ की। बलवीर ने CBI को बताया कि उस दिन वह महंत के कमरे नहीं था। वीडियो में जो संत उनकी तरह दिख रहे हैं, वे अमर गिरि थे।

रिक्रिएशन से CBI यह पता करना चाहती है कि क्या इतनी पतली रस्सी 85 किलो का भार उठा सकती है? इसके अलावा CBI यह भी पता लगाना चाहती है कि महंत नरेंद्र गिरि के गले में बना हुआ वी शेप का निशान उसी रस्सी का है या नहीं? सेवादारों से मौके पर CBI ने यह भी पता किया कि क्या शव को उस तरह फांसी से उतारना संभव है, जैसा उन्होंने बताया था। जांच एजेंसी अब उनके बयानों का विश्लेषण करेगी।

महंत का शव उतारने वाले सेवादार सुमित का मोबाइल जब्त
CBI ने महंत का शव उतारने वाले सेवादार सुमित का मोबाइल जब्त कर लिया है। शनिवार को पहली बार CBI के IG विप्लव चौधरी और ASP केएस नेगी टीम के साथ बाघंबरी मठ पहुंचे थे। जांच एजेंसी ने पूरे मठ का मुआयना किया। टीम ने एक-एक कमरे की तलाशी ली। यहां तक कि टीम मठ की छत पर भी गई। इसके बाद टीम ने कागज पर मठ का खाका खींचा। सूत्रों के मुताबिक, 3 घंटे की पूछताछ में कई अहम सुराग हाथ लगे हैं।