>



खुलासा न्यूज़, बीकानेर। लूनकरणसर में हिरण शिकार प्रकरण को लेकर इस वक्त बड़ी ख़बर सामने आई है। कलक्टर कुमारपाल गौतम से वार्ता के बाद वन्यजीव प्रेमियों ने धरना समाप्त कर दिया है। रेंजर मनरूप सिंह को निलंबित कर दिया गया है। बता दें कि लूणकरनसर कस्बे में 22 जनवरी हुए 40 हिरणों के शिकारियों को गिरफ्तार करने व शिकारियों को सरक्षण देने वाले रैंजर को निलंबित करने की मांग को लेकर बड़ी संख्या में आंदोलनकारी आज यानी रविवार को जिला कलेक्ट्रेट पहुंचे थे। यहां आरएलपी के विजयपाल बेनीवाल के नेतृत्व ने प्रशासन को चेतावनी दी कि रेंजर को सस्पेंड नहीं किया तो उग्र प्रदर्शन किया जाएगा। इस चेतावनी के बाद प्रशासन अलर्ट मोड पर आया और देर रात्रि को रेंजर को सस्पेंड करने के आदेश जारी किए।

वन विभाग ने दो और आरोपियों को किया गिरफ्तार
शुभलाई हिरण शिकार मामले के दो और आरोपी वन विभाग ने गिरफ्तार कर लिए हैं। रेंजर इकबाल खां से मिली जानकारी के अनुसार रविवार को कक्कू खां व मलकू खां को उनके गांव सादोलोई के पास ही रोही से दबोचा गया। इससे पहले 31 जनवरी को शरीफ खां उर्फ कालू खां निवासी सेनवाला छत्तरगढ़ को गिरफ्तार किया गया था, जो तीन दिन के रिमांड पर चल रहा है। वहीं दो आरोपी शुरूआत में ही गिरफ्तार हो चुके थे। उन्हीं से खुलासा हुआ था कि शिकार करने वाले कुल 6 लोग थे। जिन्होंने एक गाड़ी का इस्तेमाल करते हुए शिकार किया था। हालांकि मामले में चालीस हिरणों के शिकार की बात कही जा रही है,लेकिन रेंजर इकबाल के अनुसार मौके पर 6 कट्टों में हिरण अवशेष बरामद किए गए थे। जिनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पांच हिरणों के शिकार की पुष्टि की गई है। वहीं आरोपियों ने पांच से छ: हिरणों के शिकार की बात कबूली है।