खुलासा न्यूज़, बीकानेर। पेट्रोल फेंक जीप में आग लगाने का मामला अब तूल पकडऩे लगा है। इस मामले में उपचार के दौरान दम तोडऩे वाले शांतिलाल बोथरा के परिजनों व समाज के लोगों ने समाजसेवी रामरतन जाखड़ के नेतृत्व में नोखा थाने के सामने में जमकर प्रदर्शन किया और घटना को अंजाम देने वालों की गिरफ्तारी की मांग की। वहीं दूसरी ओर आक्रोशित लोगों ने शव लेने से इंकार कर दिया है। वहीं एक युवक की हालत गंभीर बताई जा रही है। इस प्रकरण में अभी तक पुलिस अपराधियों के गिरफ्तार क रने में नाकाम रही है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार आरोपियों की धरपकड़ के लिए तीन टीमें गठित रखी है। जल्द ही अपराधियों को पकड़ लिया जाएगा। इस मौके पर प्रधान कन्हैयालाल,उपाध्यक्ष निर्मल भूरा,ईश्वर चंद बैद,आसकरण भट्टड,महेन्द्र संचेती,सूरजमल उपाध्याय,मूलाराम मेघवाल रोडा,किसनलाल कांकरिया आदि भी मौजूद रहे।

यह है पूरा मामला
बोलेरो कैम्पर में सवार चार जनों पर जानलेवा हमला करने के आरोप में नोखा पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। ड्यूटी अधिकारी सुेरश यादव ने बताया कि परिवादी विकास ने सुरेन्द्र बिश्नोई, गोविंददान, राहुल, रेवंत सिंह व सात आठ अन्य के विरू8 जानलेवा हमले का मामला दर्ज कराया है। प्राथमिकी के अनुसार विकास, पृथ्वीसिंह, शांतिलाल बोथरा और अजीत सिंह सोमानी हॉस्पीटल जा रहे थे। ओमप्रकाश कोठारी के घर के सामने पहुंचे तो एक अन्य बोलेरो कैम्पर में सवार आरोपियों ने घेर लिया। गाड़ी में टक्ककर मारी और बोतलों में भरा पेट्रोल छिड़कर आग लगा दी। किसी प्रकार बाहर निकले। शांतिलाल व अजीत बुरी तरह झुलस गए। विकास के भी चोटें आई है।