>

खुलासा न्यूज़, बीकानेर। इससे ज्यादा प्रशासनिक और राजनीतिक अक्षमता क्या होगी कि एक गांव की महिलाएं अपने हक के लिए आमरण अनशन पर बैठ रही है। प्रशासन को बार-बार चेतावनी देने के बावजूद गांव उपेक्षा का शिकार है। श्रीडूंगरगढ़ में जनसुनवाई कार्यक्रम में कलेक्टर द्वारा आश्वासन दिया गया परन्तु कार्य होने के आसार अभी तक कहीं नजर नहीं आ रहे है। इन महिलाओं के नेतृत्व कर रही है गांव की सरपंच प्रियंका सिहाग। महिलाओं के लिए प्रसव की सुविधा तो दूर की कौड़ी है यहां सामान्य जांच के लिए ही महिलाओं केा तपती धूप में खड़ा रहना पड़ता है।
जानकाी के अनुसा कल सुबह क्षेत्र का एक गांव अनशन पर बैठ हा है अपने हके लिए। बरजांगसर सरपंच प्रियंका सिहाग शनिवार सुबह अपने गांव की इस मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठ रही है। उनके साथ सभी ग्रामीण आर-पार की जंग की तैयारी कर चुके है।