>


खुलासा न्यूज़, बीकानेर। जिले में लड़कियों व महिलाओं के आए दिन दुष्कर्म जैसी जघन्य घटनाएं हो रही है। इस जघन्य अपराध पर पुलिस भी कोई ठोस कार्यवाही नहीं करती नजर आ रही है, ऐसे में दरिदों के हौंसले बुलंद है। ताजा़ मामला नोखा थाना क्षेत्र का है, जहां नाबालिग का अपहरण कर दो दिन तक बंधक बनाकर रखने व दुष्कर्म किया। नोखा थानाधिकारी राणीदान ने बताया कि जेगला निवासी 17 वर्षीय नाबालिग ने बताया है कि 15 जुलाई को वह सुबह रामदेवजी के मंदिर गई थी, जहां चुग्गा डालकर निकलने लगी तभी एक कैम्पर गाड़ी उसके आगे रुकी। जिसमें उतरे गजेन्द्रसिंह व ओमसिंह ने उसे गाड़ी में डाला और ड्राईवर ने गाड़ी भगा ली। पीडि़ता ने बताया है कि गजेन्द्रसिंह ने उसके मुंह पर कपड़ा ठूंस दिया जिससे वह चिल्ला नहीं सकी।

दो दिन तक बनया रखा बंधक फिर किया दुष्कर्म
बताया जा रहा है कि इसके बाद आरोपी उसे जैसलसर की रोही में बनी गजेन्द्रसिंह के जीजा की ढ़ाणी में ले गए। जहां आरोपियों ने नाबलिग को दो दिन तक बंधक बनाकर रखा। वहीं गजेन्द्र सिंह ने 15 जुलाई की रात नाबालिग से दुष्कर्म किया। इसके दो दिन बाद उन्हें पता चला कि पुलिस नाबालिग की तलाश कर रही है। जिसके बाद जीजा के कहने पर गजेन्द्रसिंह व ओमसिंह उसे नोखा छोड़ गए। नाबालिग का कहना है कि वह गजेन्द्रसिंह व ओमसिंह को जानती है वहीं ढ़ाणी में पहले से मौजूद शख्स को गजेन्द्र जीजा बुला रहा था। बताया जा रहा है कि गजेन्द्रसिंह व ओम सिंह शराब का काम साथ में करते हैं। वहीं पीडि़ता ने बताया है कि गजेन्द्रसिंह ने उसके साथ दुष्कर्म किया व अन्य लोगों ने उसके अपहरण व डराने धमकाने में साथ दिया।

पिस्तौल तानी और धमकाया
बताया जा रहा है कि आरोपियों द्वारा पिस्तौल तानकर पीडि़ता घटना के बारे में किसी से भी न बताने का कहा। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 376डी, 366ए, 342, 506, 34 आईपीसी व 5/6 पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जंाच श्रीडूंगरगढ़ सीओ प्रवीण सुंडा को सौंपी है।