>


खुलासा न्यूज़, बीकानेर। मेडिकल छात्रों की फीस बढ़ोतरी किए जाने के कारण मेडिकल कॉलेज के छात्रों में काफी गुस्सा है। फीस 50 हजार रुपए किए जाने और हर साल दस प्रतिशत बढ़ोतरी किए जाने के कारण छात्रों में काफी निराशा भी देखने को मिली है। आज फीस बढ़ोतरी को लेकर विद्यार्थियों ने मेडिकल कॉलेज के सामने अपना विरोध भी जताया। आज छात्रों ने आमजन हस्ताक्षर अभियान चलाया जिसके तहत आमजन को रुकवा-रुकवा कर उनका समर्थन लिया।

इसके बाद 1 बजे कॉलेज प्रिंसिपल को मुख्यमंत्री के नाम अपना मांगपत्र आमजन के हस्ताक्षर समेत सौंपा। अध्यक्ष धर्मेन्द्र भामू ने बताया कि कल से जो भी अन्य चिकित्सक संगठन है उनसे बात की जाएगी तथा जरूरत पड़ी तो हम भूख हड़ताल पर भी बैठेंगे।

वहीं पीबीएम सुधार संघर्ष समिति के संयोजक बजरंग छींपा ने कहा कि एक तरफ तो सरकार सबको शिक्षा सबको काम का नारा दे रही है और दूसरी तरफ मेडिकल विद्यार्थियों में फीस बढ़ोतरी कर हजारों मेडिकल छात्रों के हितों पर कुठाराघात कर रही है। मेडिकल शिक्षा में फीस बढ़ोतरी किए जाने से कमजोर आर्थिक स्थिति के छात्रों पर विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों से आए विद्यार्थियों पर आर्थिक भार पड़ेगा। बहुत से विद्यार्थी फीस बढ़ोतरी की वजह से शिक्षा से भी वंचित रह सकते हैं। ऐसे में सरकार को मेडिकल शिक्षा में बढ़ोतरी की गई फीस को कम करना चाहिए।