>

– पुलिस अधीक्षक ने किया वारदात का पर्दाफाश
खुलासा न्यूज़, बीकानेर। नोखा में दिनदहाड़े पेट्रोल छिड़क कर चार व्यक्तियों को जिंदा जलाने के मामले में पुलिस को आज बड़ी कामयाबी मिली है। इस नृसंश मामले में पुलिस ने चार जनों को गिरफ्तार कर लिया है। जिला पुलिस अधीक्षक प्रदीपमोहन शर्मा ने इस बारे में पर्दाफाश करते हुए आज मीडियाकर्मियों को बताया कि पुलिस गिरफ्त में आए चारों आरोपी सुरेश उर्फ सुशीया उर्फ शिकारी पुत्र भंवरलाल विश्नोई निवासी माडिया, हाल जोरावरपुरा नोखा, गोविन्ददान पुत्र नारायणदान चारण निवासी बीकासर-नोखा, रिछपाल उर्फ फौजी पुत्र रामधन विश्नोई निवासी उडसर-जसरासर थाना और सुभाष पुत्र रामधनराम विश्नोई निवासी कूदसू थाना पांचू के रहने वाले हैं। ये चारों जने वारदात के मुख्य आरोपी हैं। वारदात की वजह आपसी रंजिश होना पाया गया है। फिलहाल पुलिस चारों आरोपियों से पूछताछ करने में जुटी है। गौरतलब है कि इस वारदात में बोलेरो में बैठे दो जने गम्भीर रूप से झुलस गए थे। जिसमेें शांति लाल बोथरा नाम के युवक की इलाज के दौरान पीबीएम अस्पताल में मौत हो गई थी। जबकि एक जना अभी भी पीबीएम अस्पताल में उपचाराधीन है।

ये रही थी वारदात की वजह
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि दिसम्बर-2019 मं आरोपी रिछपाल उर्फ फौजी व सुरेश उर्फ सुशीया उर्फ शिकारी का परिवादी विकास सेवग और उसके साथी शांतिलाल बोथरा, पृथ्वीसिंह व अजीतसिंह के साथ विवाद हो गया था। इस विवाद के चलते परिवादी पक्ष ने इन आरोपियों के साथ मारपीट की थी। इसी मारपीट का बदला लेने के लिए इन चारों आरोपियों ने 8 मार्च की शाम करीब साढ़े चार बजे नोखा में परिवादी व उसके साथियों को जिन्दा जलाने की वारदात को अंजाम दिया था।

पुलिस की इस टीम ने आरोपियों को पहुंचाया सलाखों के पीछे
वारदात को अंजाम देने के बाद से ही फरार हो गए थे। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण सुशील कुमार के नेतृत्व में टीम गठित की। जिसमें नोखा सीओ नेमसिंह चौहान, नोखा थानाधिकारी अरविन्दसिंह शेखावत, पुलिस निरीक्षक रमेश कुमार, पांचू थानाधिकारी जसवीर कुमार, एएसआई सुरेश कुमार यादव, ओमप्रकाश यादव, हैड कांस्टेबल रामस्वरूप, रामनिवास ज्याणी, श्रवणराम टांडी, बलवानसिंह, कांस्टेबल देवेन्द्र कुमार, दीपक यादव, कैलाश, अजयसिंह, सागरमल, देवाराम शामिल रहे। इन पुलिसकर्मियों ने कई स्थानों पर दबिश देकर अलग-अलग स्थानों से चारों आरोपियों का गिरफ्तार किया।