>


खुलासा न्यूज़, बीकानेर। सेरूणा व गुसाईसर के बीच नापासर एसएचओ पर फायरिंग करने वाले आरोपी को आज न्यायालय में पेश किया गया। जहां से आरोपी रामस्वरूप निंबडिय़ा को जेल भेज दिया गया है। इस मामले में अभी भी तीन आरोपी फरार चल रहे है। पुलिस का कहना है कि शीघ्र ही तीनों आरोपितों केा गिरफ्ता किया जाएगा।

यह है पूरा मामला
अवैध हथियार की सूचना पर पहुंची पुलिस पर बदमाशों ने फायर कर थानाधिकारी की गाड़ी को टक्कर मार दी। घटना बीती रात को करीब एक बजे के आस-पास की है। जब नापासर एसएचओ चन्द्रभान के पास गुंसाईसर के एक शख्स का फोन आया और बोला कि रामस्वरुप पुत्र अर्जुनराम निम्बडिय़ा गांव आया हुआ है और उसके पास हथियार हो सकता है। इस सूचना पर एसएचओ चन्द्रभान गुंसाईसर के लिए रवाना हो गए। तलाशी करते-करते एसएचओ चन्द्रभान सेरूणा पहुंचे, जहां उन्हें एक केम्पर मिली, चन्द्रभान ने केम्पर को रूकवाने का इशारा किया, लेकिन केम्पर को रोका नहीं गया और तेज गति से भगा दिया। एसएचओ चन्द्रभान को शक हो गया और उन्होंने थाने में फोन कर एक प्राइवेट गाड़ी आरजे-31 सीबी 3701से पुलिस को गुंसाईसर पहुंचकर नाकाबंदी करने की बात कही। इस सूचना पर नापासर पुलिस एक प्राइवेट गाड़ी के जरिए गुसाईसर पहुंची और सड़क पर ट्रक लगाकर नाकाबंदी करवा दी। सेरूणा व गुसाईसर के बीच पुलिस व आरोपियों की गाड़ी बीच में आरोपी और आगे-पीछे पुलिस देखकर आरोपियों ने नाकाबंदी पर खड़े पुलिसकर्मियों पर फायर किए और तेज गति से केम्पर को बैक लेकर एसएचओ चन्द्रभान की गाड़ी को तीन-चार टक्कर मारी। यहां से आरोपियों ने नाकाबंदी को तोड़कर भागने का प्रयास किया, लेकिन थोड़ी ही दूरी पर केम्पर का टायर फट गया और आरोपी वहां से सफेद बिना नंबर की केम्पर गाड़ी को छोड़कर भाग गए। पुलिस ने मौके पर बिना नंबर की सफेद केम्पर गाड़ी को जब्त कर लिया, जिसमें खाली 12 राउंड कारतूस बरामद हुए। इस संबंध में नापासर एसएचओ चन्द्रभान ने गुंसाईसर निवासी रामस्वरुप पुत्र अर्जुनराम निम्बडिय़ा, सुभाष पुत्र सहीराम, बजरंग पुत्र पुरखाराम व विशाल गोदारा पर मामला दर्ज कर आरोपियों की दुबारा तलाश शुरू की। दुबारा की गई तलाश के दौरान नापासर थानाधिकारी चंद्रभान चोटिया ने बताया कि मुख्य मुजरिम रामस्वरूप निम्बाडिया गुसाईसर निवासी उम्र 24 वर्ष को दोपहर को सूडसर रेलवे फाटक से गिरफ्तार कर एक देशी कट्टा व 6 जिंदा कारतूस बरामद किया था।