>



खुलासा न्यूज, बीकानेर। रविवार दोपहर जूनागढ़ के सामने एक लड़की को लेकर दो घंटे तक हंगामा चला। हालांकि बाद में लड़की के परिजनों को सूचित करने और सदर थाना पुलिस की कार्रवाई से मामला शांत हुआ। दरअसल हुआ यूँ की माजिसां के बास मोहल्ले में रहने वाले महेंद्र गुप्ता अपनी पत्नी के संग जा रहे थे तो उनसे यह लड़की जूनागढ़ के सामने मिली। उसने देशनोक माताजी मंदिर जाने की जिद की। इस पर गुप्ता ने पर्यटन पुलिस से चर्चा की। पर्यटन पुलिस ने अकेली संदिग्ध लड़की को देख कर सदर थाने सूचित किया। लड़की के पास एक बैग था जिसमे कुछ कपडे और सामान था। उसे किसी तरह थाने भिजवाया गया। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होने पर लड़की पुन: पर्यटन पुलिस बूथ पहंच गयी। कुछ देर में वहां वाई के शर्मा योगी और चाइल्ड हेल्प लाइन से भी पदाधिकारी पहुँच गए। योगी ने पुन: सदर थाना सूचित किया। इस पर थाना के अधिकारी मोहर सिंह मय महिला पुलिस जाप्ते पहुँच गए। इससे पहले लड़की द्वारा गुस्सा करने और रोने पर उसके हाल पर छोडऩे का फैसला किया गया। लेकिन चाइल्ड हेल्प लाइन के पदाधिकारी इस पर सहमत नहीं हुए। खुद को चारों ओर से घिरा देख कर लड़की ने बताया कि उसके माँ बाप नहीं है। जबकि इस दौरान चली खोजबीन के बीच एक लडके का फ़ोन आया की लड़की के माँ बाप जि़ंदा है। लड़की ने बताया कि वह गुडग़ाव दिल्ली में पढ़ती है। यहाँ देशनोक दर्शन के लिए आई है। इन बातों पर विश्वास ना कर चाइल्ड हेल्प लाइन के पदाधिकारियों ने उसे अपने साथ चलने के लिए कहा। सवाल जवाब अधिक होने पर लड़की ने बताया कि किलचु कल्याणसर में उसके रिश्तेदार रहते है। लेकिन सदर पुलिस यह कहकर उसे साथ ले गयी की परिजन द्वारा संपर्क करने पर ही उसे भेजा जाएगा। अब पुलिस यह पता लगा रही है लड़की का गुडग़ाव और किल्चु कल्याणसर में क्या संबद्ध है। जिस लडके का फ़ोन आया था उसकी भी पुलिस खोजबीन कर रही है। लड़की का नाम और फोटो यहाँ प्रकाशित नहीं किये जा रहे।