खुलासा न्यूज़, नागौर। राजस्थान से नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। यह वीडियो रविवार रात का है और इसमें सांसद बेनीवाल एसडीएम दिव्या चौधरी के सामने खड़े हैं। एसडीएम के सामने ही बेनीवाल एक कागज के टुकड़े-टुकड़े करते हुए उन्हें पकड़ाने के लिए अपना हाथ बढ़ाते हैं लेकिन तभी तहसीलदार दखल देते हैं। पूरा मामला जयपुर जिले के करणू गांव में 4 युवकों के साथ अमानवीय व्यवहार की घटना को लेकर खींवसर उपखंड कार्यालय के आगे चल रहे धरने से जुड़ा है। यहां तीन दिन से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (क्ररुक्क) के विधायकों का धरना चल रहा था और सांसद बेनीवाल धरना समाप्त करवाने वहां पहुंचे थे. लेकिन सांसद के आग्रह पर भी एसडीएम दिव्या उनका ज्ञापन लेने मौके पर नहीं पहुंचीं. करीब ढाई घंटे इंतजार के बाद जब एसडीएम वहां पहुंचीं तो बेनीवाल ने उनके सामने ही ज्ञापन को फाड़ते हुए टुकड़ों में उन्हें देना चाहा।
जानकारी के अनुसार धरना समाप्त करवाने पहुंचे सांसद हनुमान बेनीवाल का गुस्सा उस समय सातवें आसमान पर पहुंच गया, जब दो घंटे इंतजार के बाद रात करीब साढ़े 9 बजे खींवसर एसडीएम दिव्या चौधरी ज्ञापन लेने पहुंचीं. धरना स्थल पर पहुंचने पर सांसद बेनीवाल ने उनके सामने ज्ञापन की प्रति फाड़कर टुकड़े उनकी ओर बढ़ा दिए. एसडीएम ने हाथ आगे नहीं बढ़ाया तो वहीं खड़े तहसीलदार रामस्वरूप जौहर ने ले लिए. इसके बाद धरना समाप्त कर दिया गया लेकिन इस पूरी घटना का वीडियो वायरल हो गया।

पीडि़तो से मिले सांसद, एक-एक लाख दी सहायता
सांसद हनुमान बेनीवाल अपने समर्थकों के साथ रविवार शाम को पीडि़त दलित युवकों से मिलने पहुंचें, जहां उन्होंने सरकार द्वारा दी गई सहायता राशि से दुगुनी यानी दोनों पीडि़त युवकों को एक-एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी तथा कहा कि वे उनके हर दु:ख दर्द में साथ हैं. सांसद ने कहा कि उनकी ओर से पीडि़तों को थानागाजी की तर्ज पर सहायता पैकेज, एसपी को एपीओ करने तथा चारों अधिकारी निलम्बित करने की मांग जारी रहेगी. पीडि़तों से मिलने के बाद रविवार देर शाम को सांसद खींवसर उपखंड पर चल रहे धरना स्थल पहुंचे तथा धरने को संबोधित करते हुए प्रदेश सरकार पर गंभीर आरोप लगाए.

3 विधायक तीन दिन धरने पर बैठे
खींवसर में पिछले तीन दिन से रालोपा से खींवसर विधायक नारायण बेनीवाल, भोपालगढ़ विधायक पुखराज गर्ग और मेड़ता विधायक इंदिरा देवी बावरी के नेतृत्व में धरना चल रहा था. मामले में सांसद के आह्वान पर विधायकों ने धरने को समाप्त कर दिया. इस दौरान बेनीवाल समर्थकों की भीड़ लगी रही।