बीकानेर। केन्द्रीय कारागार में हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहा बंदी फरार हो गया। वह पैरोल पर गया लेकिन वापस नहीं लौटा। कारागार प्रशासन ने बंदी और उसकी जमानत देने वालों के खिलाफ बीछवाल पुलिस थाने में मामला दर्ज कराया है। पुलिस के अनुसार सीकर जिले के लोसल थाना क्षेत्र के शेषम गांव निवासी प्रकाश पुत्र कानाराम मेघवाल आजीवन कारावास की सजा भुगत रहा था। मार्च माह में बंदी ने ३० दिन की सामान्य पैरोल की मांग की थी। उसे सीकर जिले के ज्ञानाराम पुत्र सेवला मेघवंशी और सीकर हाल लक्ष्मणगढ़ तहसील के भिलूण्डा गांव निवासी गणपत पुत्र छोटूराम बलाई की जमानत पर पैरोल दी गई थी। आरोपी बंदी २९ मार्च को पैरोल पर छूटा। उसे २७ अप्रेल तक वापस उपस्थित होना था लेकिन नहीं हुआ। इस पर कारागार प्रशासन ने प्रहरी ईश्वरसिंह राजपुरोहित के माध्यम से बीछवाल पुलिस थाने में बंदी प्रकाश सहित जमानती ज्ञानाराम व गणपत के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।
यह है मामला
लोसल पुलिस के मुताबिक वर्ष २००९ में आरोपी प्रकाश पुत्र कानाराम मेघवाल ने अपने साथियों के साथ एक गाड़ी किराए पर ली। बाद में आरोपी ने अपने साथियों के साथ मिलकर चालक की हत्या कर कुएं में डाल दिया। वारदात का पता चलने पर पुलिस ने जिले व आसपास के जिलों में नाकाबंदी कराई। तब चूरू पुलिस ने आरोपी को हथियार के साथ पकड़ा। चूरू में आरोपी के खिलाफ आम्र्स एक्ट में और लोसल थाने में हत्या का मामला दर्ज हुआ था।