खुलासा न्यूज,बीकानेर। संभाग का सबसे बड़े पीबीएम अस्पताल में प्रशासकों की लापरवाही के कारण अस्पताल हमेशा ही सुर्खियों में रहता आया है। चाहे भ्रष्टाचार के मामले हो या कोविड मरीजों के प्रति बरती जाने वाली लापरवाही। इसकी वजह से पीबीएम का आमजन से विश्वास कम होता जा रहा है। हालात यह है कि आमजन को नियमों की सीख देने वाले जिला प्रशासन के आका भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे है। मंजर यह है कि यहां लगे अग्निशमन के यंत्र भी अवधिपार हो चुके है। जिस ओर न तो निरीक्षण करने जा रहे जिला कलक्टर व प्रशासन के आलाधिकारियों का ध्यान जा रहा है और न ही यहां का प्रशासन चलाने वाले चिकित्साधिकारियों का। इससे ऐसा प्रतीत होता है कि सभी अपनी डाई उतारने का काम ही कर रहे है।

मई की अवधि के लगे है अग्निशमन यंत्र
उधर खुलासा संवाददाता ने पीबीएम में निरीक्षण किया तो पाया कि अस्पताल में आग पर काबू पाने के लिये लगे अधिकांश अग्निशमन के यंत्र मई अवधि के है और कई यंत्रों पर तो यह स्टीकर ही फाड़ दिये गये है ताकि किसी की नजर इस पर न पड़े।
आमजन को दी जाती है नियमों की दुहाई
वैसे तो अस्पताल,मॉल,दुकान,प्रतिष्ठान में अग्निशमन यंत्र लगाना अनिवार्य किया गया है। जिसके लिये नगर निगम के अधिकारी मौका निरीक्षण करके अनुमति प्रदान करते है। यहीं नहीं इसकी अवधि को लेकर भी नियम कायदे तय किये हुए है। लेकिन सरकारी अस्पताल में इस तरह अवधिपार अग्निशमन यंत्र लगे होने पर न तो निगम की ओर से और न ही प्रशासन की ओर से जिम्मेदारों पर कार्यवाही की जाती है।