– डॉक्टर्स की साख पर दाग लगाने के लिए किया ऑडियो वायरल
खुलासा न्यूज़, बीकानेर। बीकानेर संभाग के सबसे बड़े अस्पताल पीबीएम में कमीशन का खेल चलता है। जहां डॉक्टर्स से स्टाफ तक कमीशनखौरी के खेल में लिप्त है। कमीशनखोरी में डॉक्टर्स व स्टाफ के घालमेल का ऑडियो इन दिनों सोशल मीडिया में जबरदस्त वायरल हो रहा है।
इस ऑडिया को लेकर पड़ताल की तो सामने आया कि सफाई ठेकेदार ने सुझबुझ तरीके से फर्जी तरीके से डॉक्टर्स के खिलाफ ऑडियो वायरल करवाया। इस ऑडियो में डॉ. मनोहरलाल दवा, डॉ. पी.के.बैरवाल, डॉ. बी.एल.खजोटिया का नाम कमीशन लेने की बात कही गई है, जबकि सच तो यह है कि जब यह ऑडियो वायरल हुआ तब डॉ. मनोहरलाल दवा कोटा हॉस्पिटल में थे और डॉ. बी.एल.खजोटिया पीबीएम की बनाई गई कमेटी ‘सफाई टेंडर’ में शामिल ही नहीं थे। ऐसे में यह ऑडियो सफाई ठेकेदार द्वारा साजिश के लिए यह ऑडियो वायरल किया है।

सिक्योरिटी का टेण्डर भी हुआ था तीन बार कैन्सिल
जानकारी के अनुसार पीबीएम अस्पताल में सिक्योरिटी का टेण्डर भी तीन बार कैन्सिल हुआ था। वजह यह रही कि बीकानेर के स्थानीय पांच फर्म टेण्डर भरती है, इसके बाद फर्मों में खींचतान हो जाती है। ऐसे में एक-दूसरे टेण्डर को रद्द करवाने में लग जाते है।

ठेकेदार अपने फायदे के लिए डॉक्टर्स की कमेटी को बनाते है टारगेट
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सफाई ठेकेदार हो या सिक्योरिटी ठेकेदार यह अपने फायदे के लिए डॉक्टर्स की कमेटी को टारगेट बनाते है। ठेकेदार स्वार्थ के लिए डॉक्टर्स पर आरोप लगाते है, ताकि टेण्डर रद्द हो सके।

सालों की कमाई साख पर बट्टा लगाने में तुले है ठेकेदार
पीबीएम की सलों से कमाई साख पर नामचीन ठेकेदारों ने बट्टा लगा दिया है। स्वार्थ के खातिर ठेकेदार किसी भी हद पर जा सकते है।

टेण्डर की होगी फिर से जांच : प्राचार्य
सफाई टेण्डर की फिर से जांच होगी। इस जांच में अगर नियमों के तहत सही नहीं पाया गया तो टेण्डर फिर से दुबारा कराया जायेगा। सोमवार को बीकानेर आते ही टेण्डर की फाइल चेक करूंगा।
– डॉ. एच. एस. कुमार, प्राचार्य, मेडिकल कॉलेज, बीकानेर

इनका कहना है
पिछले 15 सालों से एक ही फर्म सफाई का ठेका ले रही थी। अब इस फर्म को ठेका न मिलने पर षड्यंत्र पूर्वक एक ऑडियो वायरल कराया है, जिसमें डॉक्टर्स का कमीशन लेने का जिक्र किया गया है। यह आरोप निराधार है। सफाई ठेकेदार द्वारा सूझ-बूझ तरीके से वायरल कराये ऑडियो से पीबीएम के डॉक्टर्स की साख खराब हुई है। अब हम ऑडियो वायरल करने वाले ठेकेदार के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज कराएंगे। साथ ही हम इस ऑडियो की जांच करवाने की मांग कर रहे है जिसमें दूध का दूध पानी का पानी हो जायेगा।
-डॉ. पी.के. बैरवाल, अधीक्षक, पीबीएम अस्पताल, बीकानेर

क्या है मानहानि
जब भी किसी शख्स के मान-सम्मान/ साख को आरोप लगाकर या सरेआम उसका अपमान कर ठेस पहुंचाई जाती है तो ऐसे मामले में मानहानि का मामला बनता है। शर्त यह है कि ऐसी घटना सार्वजनिक तौर पर हुई हो।