>


कोरोना वायरस से पूरी दुनिया लड़ रही है और कई देशों में इसके वैक्सीन को विकसित करने पर काम चल रहा है. इस महामारी से बुरी तरह प्रभावित अमेरिका ने वैक्सीन हासिल कर लेना का दावा किया गया है. न्यूज एजेंसी AFP के मुताबिक अमेरिका को कोरोना वैक्सीन की 10 करोड़ खुराक मिल गई हैं. न्यूज एजेंसी ने अमेरिका को कोरोना वैक्सीन मिलने का दावा करते हुए कहा है कि जर्मनी की दवा कंपनी बायोएनटेक (BioNTech) की तरफ से 1.95 अरब की कीमत पर ये वैक्सीन मिली है. बता दें कि ऐसी ही खबरें रूस से भी सामने आई हैं कि वहां के कई अरबपति और अमीर लोगों ने वैक्सीन लगवाकर खुद को कोरोना वायरस से सुरक्षित कर लिया है. इस बात का दावा ब्लूमबर्ग ने किया है.

दावा ये भी किया जा रहा है कि रूस की टीम वैक्सीन बनाने में सबसे आगे हैं और मानवों पर उसका ट्रायल पूरा हो चुका है. इतना ही नहीं, ये भी कहा जा रहा है कि रूस के राष्ट्रपति पुतिन सहित वहां की बड़ी हस्तियों और राजनेताओं ने भी अप्रैल महीने में ही वैक्सीन लगवा ली थी.

 

बता दें कि कोरोना वायरस की टेस्टिंग के मामले में इस वक्त दुनिया में अमेरिका नंबर वन पर है, क्योंकि वहां पर हर रोज करीब सात लाख टेस्ट किए जा रहे हैं. बुधवार सुबह तक अमेरिका में 4 करोड़ 90 लाख से अधिक टेस्ट हो चुके हैं.

 

वहीं अगर भारत की बात करें, तो अब भारत में हर रोज साढ़े तीन लाख से अधिक टेस्ट हो रहे हैं और कुल टेस्ट का आंकड़ा डेढ़ करोड़ के करीब पहुंच गया है.

 

बुधवार को व्हाइट हाउस में मीडिया से बात करते हुए राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि अमेरिका में सबसे अधिक केस इसलिए हैं, क्योंकि हम सबसे अधिक टेस्ट कर रहे हैं. जल्द ही हम 50 मिलियन टेस्ट का आंकड़ा पूरा कर लेंगे, हमारे बाद सिर्फ भारत ही है जो सबसे अधिक टेस्ट कर रहा है. बता दें कि अमेरिका की कई कंपनियां पहले से ही कोरोना वैक्सीन विकसित करने की रेस में आगे है.