>


बीकानेर। बीकानेर में सफेद सोना कहे जाने वाले जिप्सम का अवैध खनन बेखौफ जारी है। अवैध धंधे में लिप्त माफिया न पुलिस से डरते हैं न ही आरएसएमएम से। खान प्रबंधकों और खनि निरीक्षकों में खनन माफिया का डर बैठा हुआ है, वे भयाक्रांत हैं। बरसों से चल रहे इस अवैध धंधे में लिप्त लोगों के सरकार में ऊंचे रसूख वालों से सम्बंध होने के कारण पुलिस थानों में मुकदमे दर्ज होने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हो रही। हर रात सैंकड़ों टन जिप्सम का जेसीबी से अवैध खनन किया जा रहा है। हालांकि कभी-कभी खनन विभाग पुलिस थानों में अवैध खनन करने वालों के खिलाफ मुकदमे दर्ज भी करवा रहा है, लेकिन यह सिर्फ औपचारिकता है, क्योंकि पुलिस ने क्या कार्रवाई की, इसके बारे में खनन विभाग ज्यादा पूछताछ नहीं करता।
एक और मामला
खनिज विभाग में अंधेरगर्दी का एक और मामला सामने आया है। बज्जू क्षेत्र में सरकारी लीज की भूमि से माफि या हजारों टन जिप्सम निकालकर ले गए और विभाग आंखें मूंदकर बैठा रहा। लीज भूमि से अधिकांश जिप्सम पार होने के बाद विभाग ने बज्जू थाने में मामला दर्ज कराया है।
पहले भी दर्ज हुए हैं मामले
यह पहला मौका नहीं है। इससे पहले भी दंतौर, बल्लर व आसपास के क्षेत्र में जिप्सम के अवैध खनन व सरकारी लीज भूमि से अवैध रूप से जिप्सम निकालने के कई मामले सामने आ चुके हैं। कुछ मामले पुलिस तक भी पहु ंचे लेकिन अंकुश नहीं लग पाया है। करीब एक पखवाड़ा पहले आरएसएमएम ने भरूपावा क्षेत्र में सरकारी लीज से जिप्सम का अवैध खनन व परिवहन करने का मामला दर्ज कराया था।
अब दो मामले फिर दर्ज
बुधवार को दो अलग-अलग मामले बज्जू थाने में दर्ज कराए गए हैं। दोनों ही मामले खान विभाग के अब्दुला वाली खान के प्रबंधक दुर्गेशचन्द्र जोशी की ओर से दर्ज कराए गए हैं। एक मामले में रणवीर जाखड़ निवासी द ंतौर, इकबाल खान निवासी 20 एसएमडी के खिलाफ दर्ज कराया गया है, वहीं दूसरा मामला रामनिवास विश्नोई निवासी दंतौर के खिलाफ दर्ज कराया गया है। दोनों ही मामलों में आरोप लगाया गया है कि आरोपियों ने 16 मई की रात्रि को सरकारी लीज क्षेत्र में अवैध खनन कर जिप्सम को ट्रेक्टरों व डम्पर में भरकर ले गए। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच की औपचारिकता शुरू कर दी है।
नहीं लग रहा अंकुश
दंतौर क्षेत्र में जिप्सम के अकूत भंडार होने के कारण माफिया भी सक्रिय है। पूर्व में जिला कलक्टर कुमारपाल गौतम ने मौके पर पहुंचकर जिप्सम के अवैध खनन का पर्दाफाश किया था और खनन विभाग के अधिकारियों क ो फटकार लगाई थी लेकिन उसके बाद भी विभाग की नींद नहीं खुली है।
मिली भगत की आशंका
जानकारी के अनुसार माफिया से मिली भगत के चलते तथा माफिया के खौफ के कारण खनन विभाग के अधिक ारी कार्रवाई नहीं करते। यही कारण है कि दंतौर, बल्लर, जामसर क्षेत्र में धड़ल्ले से जिप्सम का अवैध खनन निरंतर बेखौफ हो रहा है।