>


– चूरू जिले के छापर थाना क्षेत्र में जून-18 में हुई थी हत्या, आरोपी रसूखदार
खुलासा न्यूज़, बीकानेर। चूरू जिले के छापर थाना क्षेत्र में सवा साल पहले हुई हत्या के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं किए जाने से परेशान हुए परिजनों ने आज यहां रेंज के पुलिस महानिरीक्षक कार्यालय के आगे प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी परिजनों ने आरोपी को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग का ज्ञापन पुलिस महानिरीक्षक जोस मोहन को सौंपा।

मृतक शख्स के छोटे भाई मुरलीधर स्वामी ने बताया कि उनके बड़े भाई लीलाधर स्वामी की हत्या करने वाले दोनों आरोपी अमित मोदी और अमित पेडि़वाल सट्टा और हवाला कारोबार से जुड़े हैं। धनबली होने की वजह से उनका समाज में रौब है और वे रसूखदार माने जाते हैं। इसी वजह से छापर थाना पुलिस उन पर हाथ डालने से घबरा रही है। आरोपियों की पुलिस से मिलीभगत हो रखी है।

उन्होंने बताया कि हत्या की वारदात 27 जून-2018 को हुई थी, उस दौरान छापर थाना पुलिस ने एक महीने तक आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया था। पुलिस के रवैये से परेशान होकर उन्होंने इस्तगासे के जरिए मामला दर्ज कराया था। इसके बावजूद पुलिस ने इस प्रकरण में कार्रवाई करने की जहमत तक नहीं उठाई। इतना ही नहीं हत्या की वारदात को पन्द्रह महीने बीत जाने के बाद भी पुलिस ने न्यायालय में आरोपियों के खिलाफ चालान पेश नहीं किया है।

प्रदर्शनकारियों ने बताया कि आज आईजी साहब ने आश्वासन दिया है वे आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करवाएंगे। । प्रदर्शन करने वालों में रामप्रताप, मुरली, बिजू, मंजूर, पूनमसिंह, घनश्याम, सीताराम सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण शामिल थे।

अब आईजी ने चूरू एसपी को दी जांच, त्वरित आरोपियों को गिरफ्तार करने के दिए निर्देश
आईजी जोस मोहन ने मृतक के परिजनों को चूरू जाकर वहां के पुलिस अधीक्षक से मिलने की बात भी कही। बताया जा रहा है कि इस प्रकरण को लेकर पुलिस दो बार एफआर पेश कर चुकी है। इसके बाद कोटगेट थाने के थानाधिकारी धरम पूनिया को जांच सौंपी गई। आज आईजी जोस मोहन ने इस प्रकरण की जांच चूरू एसपी को सौंपी है और त्वरित प्रभाव से आरोपियों को गिरफ्तार करने के निर्देश दिए है।

यह है पूरा मामला
मृतक के बेटे दिनेश ने इस्तागासे के जरिए छापन पुलिस थाने में दर्ज कराए मामले में आरोप लगाया कि 27 जुलाई 2018 को रंजिश के चलते अमित मोदी व अमित पेड़ीवाल सहित 5-6 अन्य व्यक्तियों ने षडयंत्र रचकर मेरे पिता लीलाधर स्वामी को फार्म हाउस बुलाकर बेहरमी से हत्या कर दी। दिनेश ने आरोप लगाया कि उक्त आरोपियों ने पहले उसके पिता के गुप्तांगों पर वार करके अधमरा कर दिया फिर फांसी पर लटका दिया। दिनेश ने बताया कि घटना के दो दिन पहले उसके पिता ने दादी को फोन पर कहा था कि उनको जान का खतरा है। इस रिपोर्ट पर छापर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 302, 341, 323, 120बी के तहत मामला दर्ज किया था।