नोखा में भूमि पूजन से मां अन्नपूर्णा प्रसादालय का निर्माण शुरू
बीकानेर। जो व्यक्ति या संस्था सेवा भाव से काम करते है,उन्हें न तो धन की कमी आती है और न ही संसाधनों की। परमात्मा ऐसे लोगों के लिये आगे से आगे रास्ता बनता रहता है। ये उद्गार जिला कलक्टर कुमारपाल गौतम ने नोखा गांव में आश्रयहीन,असहाय पीडि़तों की सेवार्थ नोखा में अपना घर आश्रम के 600 आवासीय क्षमता वाले भवन और मां अन्नपूर्णा प्रसादालय का भूमि पूजन के अवसर पर आयोजित समारोह में व्यक्ति किये। उन्होंने कहा कि एक ओर यह चिंता का विषय है कि ऐसे आश्रमों की जरूरत पड़ रही है। वहीं दूसरी ओर इस बात की खुशी भी है कि बिना किसी धर्म,जाति,वर्ग,बीमारी के भेदभाव के 24 घंटे सेवा करने वाले लोग भी मौजूद है। जो सेवाश्रमों के माध्यम से नि:स्वार्थ भाव से परोपकार का कार्य कर रहे है। गौतम ने कहा कि बेटियों द्वारा संयोएं गये ऐसे प्रकल्पों से लोगों में सेवा के भाव पैदा होते है। उन्होंने कहा कि परोपकार का काम स्वयं आप अपने लिये कर रहे है। जिला कलक्टर गौतम ने कहा कि मातृभूमि के लिये कुछ करने का जज्बा नोखा और बीकानेरवासियों में है।

 

 

इस अवसर पर रामेश्वरानंद महाराज ने कहा कि जो व्यक्ति स्वयं की ङ्क्षचता न कर परोपकार के लिए कार्य करता है, वही सच्चे अर्थों में मनुष्य है। परमात्मा ने हमें जो भी शक्तियां व साम‌र्थ्य दिए हैं वे दूसरों का कल्याण करने के लिए दिए हैं। प्रकृति के प्रत्येक कण-कण में परोपकार की भावना दिखती है। रामानंद जी महाराज ने कहा कि दूसरों के कष्टों को अपना समझना ही सच्ची मानवता है। अपना धन और जीवन परोपकार में त्याग देना चाहिए क्योंकि इन दोनों का विनाश निश्चित है। अच्छे निमित्त में इनका त्याग श्रेष्ठ है। कार्यक्रम अध्यक्ष संयुक्त आयकर आयुक्त ने कहा कि नोखा की बेटियों ने अच्छे प्रकल्प की शुरूआत की है। जो वास्तव में साधूवाद की पात्र है,जिन्होनें प्रभुजनों के दर्द का अपना समझकर इनकी सेवा का बीड़ा उठाया। इस मौके पर डॉ बी एम भारद्वाज ने कहा कि अपनाघर आश्रम नहीं एक विचार धारा है। जो दीन दुखियों और जरूरतमंद परमात्माओं के दर्शन कराती है। अब तक इस विचार धारा से दस लाख लोग जुड चुके है। इस दौरान एम पी सिंह, जिला उद्योग केन्द्र की महाप्रबंधक मंजू नैण गोदारा,सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उपनिदेशक एल डी पंवार,माधुरी भारद्वाज ने भी विचार रखे। अध्यक्ष किरण झंवर ने बताया कि करीब दस करोड़ की लागत से बनने वाले अपना घर आश्रम का निर्माण 2021 तक पूरा हो सकेगा। जिसमें अस्पताल व अन्य सुविधाएं भी मुहैया रहेगी। नोखा की देश विदेश में प्रवासी करीब सात सौ बेटियां अपने ससुराल से पीहर नोखा में एक करोड़ तीस लाख रूपये जमा कर अपना घर के आवासीय भवन बनाने का जो सपना संजोया आज उसकी परिकल्पना साकार हो गई है। भव्य समारोह में हनुमान झंवर,डी पी पचीसिया,जुगल राठी, किशन मून्दड़ा,अशोक मून्दड़ाके मार्गदर्शन में बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने विभिन्न व्यवस्थाओं का बखूबी संचालन ज्योतिप्रकाश रंगा ने किया।आभार ओमप्रकाश मून्दड़ा ने जताया।
समारोह में इनकी रही मौजूदगी
कार्यक्रम में नोखा पालिकाध्यक्ष नारायण झंवर,हनुमान झंवर,डी पी पचीसिया,जुगल राठी,दामोदर झंवर,सुभाष मित्तल,डॉ धनपत कोचर,राजाराम धारणिया,विनोद गोयल,नरेश मित्तल,मगन चांडक,रामेश्वरलाल भूतड़ा,कन्हैयालाल लखाणी,बाबूलाल मोहता सहित अनेक लोग मौजूद रहे।
चंद पलों में करोड़ जमा
भूमि पूजन समारोह के दौरान करोड़ों की घोषणा से जहां पंडाल तालियों से गूंजता रहा। वहीं दर्शक दीर्घा वाह -वाह और अश-अश से गूंजी। समारोह में करीब 300 प्रभुजनों के लिए बैड भेंट की घोषणा की गई, प्रत्येक बैड 1 लाख लागत का होगा।