राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा (REET) के साथ नकल कराने वाले गिरोह भी एक्टिव हो गए हैं। रविवार को परीक्षा शुरू होते ही प्रदेश में अलग-अलग जगह नकलचियों को गिरफ्तार किया गया। सबसे ज्यादा हैरान करने वाला मामला बीकानेर में सामने आया। जहां कैंडिडेट्स को ब्लूटूथ डिवाइस लगी चप्पलें बेचने वाले छह लोगों को पुलिस ने पकड़ा है।

पुलिस अधीक्षक प्रीतिचन्द्रा ने बताया कि राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा में नकल को रोकने के लिए पुलिस नकल गिरोह पर नजर रखे हुए थे। इसी बीच मुखबीर से नकल गिरोह के सक्रिय होने की सूचना मिली। जिला पुलिस स्पेशल टीम एवं गंगाशहर पुलिस को सर्तक किया। गंगाशहर व डीएसटी ने नोखा रोड़ स्थित नया बस स्टैंड से एक महिला समेत पांच लोगों को दबोचा, जिनके पास से नकल कराने वाली सामग्री जब्त की गई। राजलदेसर के जगेणिया निवासी मदनलाल पुत्र भीखाराम जाट, गोपाल कृष्ण पुत्र रामलाल जाट, चूरू, राजलेदसर के रामपुरा निवासी ओमप्रकाश पुत्र बेगाराम जाट, नोखा के भादला निवासी त्रिलोकचंद पुत्र भंवरलाल जाट एवं चूरू के रतनगढ़ निवासी किरण कुमारी पत्नी नरेन्द्र कुमार को पकड़ा गया। इनके पास से मोबाइल, ब्लूट्रूथ, माइक्रो ईयरफोन, मोबाइल चिप आदि जब्त किए गए।
नकल गिरोह का मास्टर माइंड सुजानगढ़ हाल पवनपुरी निवासी तुलसराम कालेर है जो पहले भी नकल प्रकरण में पकड़ा जा चुका है। यह पूर्व में चाणक्य इंस्टीट्यूट चलाता था। तुलसराम का मदनलाल जाट खास व्यक्ति हैं। तुलसाराम ने एक पारी पेपर के अभ्यर्थियों से पांच लाख रुपए में सौदा तय किया था। आरोपी तुलसाराम फरार है, जिसकी धरपकड़ के प्रयास किए जा रहे हैं।

25 लोगों को उपलब्ध कराई चप्पलें
पुलिस अधीक्षक चन्द्रा के मुताबिक नकल माफिया तुलसाराम ने प्रदेशभर में 25 से अधिक लोगों को विशेष डिवाइस लगी चप्पलें उपलब्ध कराई थी। पुलिस अब तक प्रदेशभर से आठ अभ्यर्थियों को पकड़ चुकी हैं। शेष अभ्यर्थियों की पहचान करने में लगी है। आरोपी तुलसाराम ने एक अभ्यर्थी से सात रुपए में सौदा किया था। एडवांस के तौर पर चेक व स्टांप पेपर लिया था।

ऐसे करवाता नकल
गंगाशहर सीआइ राणीदान उज्ज्वल ने बताया कि तुलसाराम ने नकल कराने की जिम्मेदारी उठा रही थी। उसने अभ्यर्थियों को ब्लूट्रूथ डिवाइस लगी विशेष चप्पल अभ्यर्थियों को उपलब्ध कराई थी। ब्लूट्रूथ में एक चिप लगी हुई थी जो अभ्यर्थी के कान में लगे माइक्रो ईयरफोन से कनेक्ट था। ब्लूट्रूथ डिवाइस में एक चिप लगी थी, जिसे मोबाइल की सिम से कनेक्ट किया गया। परीक्षा केन्द्र में जाने से पहले तुलसाराम ने मोबाइल फोन से ब्लूट्रूथ को कनेक्ट कर लिया। बाद में व

यह थी टीम
एएसपी सिटी शैलेन्द्र सिंह इंदौलिया के नेतृत्व में सीओ सदर पवनकुमार भदौरिया, डीएसटी प्रभारी सुभाष बिजारणिया, गंगाशर सीआइ राणीदान उज्ज्वल, बीछवाल सीआइ मनोज शर्मा, एसआई जयसिंह, एएसआई रामकरणसिंह, हैडकांस्टेबल कानदान सांदू, अब्दुल सत्तार, साइबर सेल के दीपक यादव, कांस्टेबल वासुदेव, सवाईसिंह व साइबर सेल का कांस्टेबल दिलीप सिंह आदि शामिल थे।