बांसवाड़ा। आंबापुरा क्षेत्र में पिछले दिनों गेमन पुल के पास पानी में मिला आंगनवाड़ी सहायिका का शव हत्या के बाद फेंका गया था। मृतका के पति ने ही अपनी साली के साथ मिलकर रस्सी से गला घोंटकर उसे मारा और फिर शव बाइक पर डालकर गेमन ले जाकर पुल से फेंक दिया था। आंबापुरा पुलिस ने यह खुलासा दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी के साथ शुक्रवार को किया। थानाधिकारी किरेंद्रसिंह ने बताया कि 29 अगस्त को माही बेक वाटर में गेमन पुल से आगे पानी में शव तैरता मिला। इसकी शिनाख्त दूसरे दिन शिनाख्त पड़ोली गोवद्र्धन निवासी सोना पत्नी शंकरलाल डोडियार के रूप में हुई। प्रकरण में मृतका के पिता रामोर वड़ली निवासी शंकरलाल पुत्र धारजी निनामा ने अपने भाणेज से फोन पर हुई बातचीत के आधार पर हत्या का अंदेशा जताते हुए रिपोर्ट दी थी। इस पर एसपी कावेंद्रसिंह सागर के निर्देशन में थाने की टीम गठित कर जांच की गई। इस दौरान मेडिकल बोर्ड से प्राप्त पोस्टमार्टम से सोना की मौत पानी में डूबने से नहीं, बल्कि गला घोंटने से होने की पुष्टि हई।
इस पर संदिग्ध आरोपियों मृतका के पति शंकरलाल डोडियार और छोटी बहन केसर को डिटेन किया गया। पूछताछ के दौरान इन्होंने वारदात कबूल की, तो दोनों को गिरफ्तार किया गया। आरोपियों को बुधवार को कोर्ट में पेश करने पर न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश हुए। जांच दल में पाड़ला चौकी प्रभारी रवि थापा, कांस्टेबल पुष्पेंद्रसिंह, पवनकुमार, किरणकुमार, ईश्वरसिंह और महिला कांस्टेबल भगवती शामिल थे। गौरतलब है कि मृतका महिला एवं बाल विकास विभाग के अधीन आंगनवाड़ी में सहायिका थी।
आए दिन झगड़े पर खफा होकर मारा पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने यह भी बताया कि सोना की रजामंदी से शंकर ने अपनी साली केसर से नातरा किया, लेकिन अपने यहां लाने के बाद से आएदिन दोनों में झगड़े होने लगे। फिर केसर गर्भवती हुई तो सोना के झगड़े और बढ़ गए, तो तंग आकर दोनों ने उसे ठिकाने लगाने की ठानी। इसके बाद घटना के दिन किराए की दुकान से पड़ोली गोवद्र्धन में घर जाते समय चौधरी फार्म हाउस के पास दोनों ने रस्सी से गला घोंटकर सोना की हत्या कर दी। फिर रात दस बजे बाइक पर डालकर उसे गेमन पुल ले गए और पानी में फेंक दिया। पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त बाइक भी शंकर के घर से बरामद की।